prayer and meditations

Matthew 6:9-13 – मत्ती 6:9-13 – 馬太福音 6

“This, then, is how you should pray: “‘Our Father in heaven, hallowed be your name, your kingdom come, your will be done, on earth as it is in heaven. Give us today our daily bread. And forgive us our debts, as we also have forgiven our debtors. And lead us not into temptation, but deliver us from the evil one.’

इसलिए इस प्रकार प्रार्थना करो:‘स्वर्ग धाम में हमारे पिता, तेरा नाम पवित्र रहे। जगत में तेरा राज्य आए। तेरी इच्छा जैसे स्वर्ग में पूरी होती है वैसे ही पृथ्वी पर भी पूरी हो। दिन प्रतिदिन का आहार तू आज हमें दे। अपराधों को क्षमा दान कर जैसे हमने अपने अपराधी क्षमा किये। हमें परीक्षा में न ला परन्तु बुराई से बचा।’

「所以,你們禱告要這樣說:『我們在天上的父,願人都尊你的名為聖,願你的國降臨,願你的旨意行在地上,如同行在天上。我們日用的飲食,今日賜給我們。免我們的債,如同我們免了人的債。不叫我們遇見試探,救我們脫離凶惡。因為國度、權柄、榮耀,全是你的,直到永遠。阿們。你們饒恕人的過犯,你們的天父也必饒恕你們的過犯。你們不饒恕人的過犯,你們的天父也必不饒恕你們的過犯。

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s