Hebrews chapter 1 – इब्रानियों – 希伯來書

hebrew-1-w-b

Long ago, at many times and in many ways, God spoke to our fathers by the prophets, but in these last days he has spoken to us by his Son, whom he appointed the heir of all things, through whom also he created the world. He is the radiance of the glory of God and the exact imprint of his nature, and he upholds the universe by the word of his power. After making purification for sins, he sat down at the right hand of the Majesty on high, having become as much superior to angels as the name he has inherited is more excellent than theirs.

For to which of the angels did God ever say, “You are my Son, today I have begotten you”?

Or again, “I will be to him a father, and he shall be to me a son”?

And again, when he brings the firstborn into the world, he says, “Let all God’s angels worship him.”

Of the angels he says, “He makes his angels winds, and his ministers a flame of fire.”

But of the Son he says, “Your throne, O God, is forever and ever, the scepter of uprightness is the scepter of your kingdom. You have loved righteousness and hated wickedness; therefore God, your God, has anointed you with the oil of gladness beyond your companions.”

And, “You, Lord, laid the foundation of the earth in the beginning, and the heavens are the work of your hands; they will perish, but you remain; they will all wear out like a garment, like a robe you will roll them up, like a garment they will be changed.[a]

But you are the same, and your years will have no end.” And to which of the angels has he ever said, “Sit at my right hand until I make your enemies a footstool for your feet”?

Are they not all ministering spirits sent out to serve for the sake of those who are to inherit salvation?

t-script-7-x-600px

परमेश्वर ने अतीत में नबियों के द्वारा अनेक अवसरों पर अनेक प्रकार से हमारे पूर्वजों से बातचीत की। किन्तु इन अंतिम दिनों में उसने हमसे अपने पुत्र के माध्यम से बातचीत की, जिसे उसने सब कुछ का उत्तराधिकारी नियुक्त किया है और जिसके द्वारा उसने समूचे ब्रह्माण्ड की रचना की है।वह पुत्र परमेश्वर की महिमा का तेज-मंडल है तथा उसके स्वरूप का यथावत प्रतिनिधि। वह अपने समर्थ वचन के द्वारा सब वस्तुओं की स्थिति बनाये रखता है। सबको पापों से मुक्त करने का विधान करके वह स्वर्ग में उस महामहिम के दाहिने हाथ बैठ गया। इस प्रकार वह स्वर्गदूतों से उतना ही उत्तम बन गया जितना कि उनके नामों से वह नाम उत्तम है जो उसने उत्तराधिकार में पाया है।

क्योंकि परमेश्वर ने किसी भी स्वर्गदूत से कभी ऐसा नहीं कहा:“तू मेरा पुत्र; आज मैं तेरा पिता बना हूँ।”

और न ही किसी स्वर्गदूत से उसने यह कहा है,“मैं उसका पिता बनूँगा, और वह मेरा पुत्र होगा।”

और फिर वह जब अपनी प्रथम एवं महत्त्वपूर्ण संतान को संसार में भेजता है तो कहता है,“परमेश्वर के सब स्वर्गदूत उसकी उपासना करें।”

स्वर्गदूतों के विषय में बताते हुए वह कहता है:“उसने अपने सब स्वर्गदूत को पवन बनाया और अपने सेवकों को आग की लपट बनाया।”

किन्तु अपने पुत्र के विषय में वह कहता है:“हे परमेश्वर! तेरा सिंहासन शाश्वत है, तेरा राजदण्ड धार्मिकता है; तुझको धार्मिकता ही प्रिय है, तुझको घृणा पापों से रही, सो परमेश्वर, तेरे परमेश्वर ने तुझको चुना है, और उस आदर का आनन्द दिया। तुझको तेरे साथियों से कहीं अधिक दिया।”

परमेश्वर यह भी कहता है,“हे प्रभु, जब सृष्टि का जन्म हो रहा था, तूने धरती की नींव धरी। और ये सारे स्वर्ग तेरे हाथ का कतृत्व हैं। ये नष्ट हो जायेंगे पर तू चिरन्तन रहेगा, ये सब वस्त्र से फट जायेंगे। और तू परिधान सा उनको लपेटेगा। वे फिर वस्त्र जैसे बदल जायेंगे। किन्तु तू यूँ ही, यथावत रहेगा ही, तेरे काल का अंत युग युग न होगा।”

परमेश्वर ने कभी किसी स्वर्गदूत से ऐसा नहीं कहा:“तू मेरे दाहिने बैठ जा,जब तक मैं तेरे शत्रुओं को, तेरे चरण तल की चौकी न बना दूँ।”

क्या सभी स्वर्गदूत उद्धार पाने वालों की सेवा के लिये भेजी गयी सहायक आत्माएँ हैं?

t-script-7-x-600px

神既在古時藉著眾先知多次多方地曉諭列祖,就在這末世藉著他兒子曉諭我們;又早已立他為承受萬有的,也曾藉著他創造諸世界。他是神榮耀所發的光輝,是神本體的真像,常用他權能的命令托住萬有。他洗淨了人的罪,就坐在高天至大者的右邊。他所承受的名既比天使的名更尊貴,就遠超過天使。所有的天使,神從來對哪一個說「你是我的兒子,我今日生你」?又指著哪一個說「我要做他的父,他要做我的子」?  再者,神使長子到世上來的時候,就說:「神的使者都要拜他。」 論到使者,又說:「神以風為使者,以火焰為僕役。」 論到子卻說:「神啊,你的寶座是永永遠遠的,你的國權是正直的。你喜愛公義,恨惡罪惡,所以神,就是你的神,用喜樂油膏你,勝過膏你的同伴。」

又說:「主啊,你起初立了地的根基,天也是你手所造的。天地都要滅沒,你卻要長存;天地都要像衣服漸漸舊了。你要將天地捲起來,像一件外衣,天地就都改變了;唯有你永不改變,你的年數沒有窮盡。」所有的天使,神從來對哪一個說「你坐在我的右邊,等我使你仇敵做你的腳凳」?天使豈不都是服役的靈,奉差遣為那將要承受救恩的人效力嗎?

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s