लूका 6:20-22

फिर अपने शिष्यों को देखते हुए वह बोला:

“धन्य हो तुम जो दीन हो,

स्वर्ग का राज्य तुम्हारा है,

धन्य हो तुम, जो अभी भूखे रहे हो,

क्योंकि तुम तृप्त होगे।

धन्य हो तुम जो आज आँसू बहा रहे हो,

क्योंकि तुम आगे हँसोगे।

“धन्य हो तुम, जब मनुष्य के पुत्र के कारण लोग तुमसे घृणा करें, और तुमको बहिष्कृत करें, और तुम्हारी निन्दा करें, तुम्हारा नाम बुरा समझकर काट दें।